बाबा रामदेव के ऐलान से सरकार घबरा गई है।

NAVBHARAT TIMES Me news chappa hai Baba Ramdev ko kya rajniti me aana chahiye ya nahi. baba ko boliye rajniti main na aye??? keya jarurat hai??? Anna Ji kam kar rahe hai.... kaun bara hai a dikhana sadhu o ke liye thik nehi hai....


भ्रष्टाचार और काले धन के मामले पर 4 जून से जंतर मंतर पर सत्याग्रह करने के बाबा रामदेव के ऐलान से सरकार घबरा गई है। सरकार ने बाबा रामदेव को मनाने के लिए एक कैबिनेट मंत्री को दूत के रूप में भेजने का फैसला किया है। दरअसल, सरकार नहीं चाहती कि अन्ना हजारे के आंदोलन की तरह उसके सामने विचित्र स्थिति पैदा हो जाए।

बाबा के अनशन के ऐलान के मद्देनजर सोमवार को सीसीपीए की मीटिंग में इसपर विचार किया गया। माना जा रहा है कि बैठक में बाबा से बातचीत के लिए किसी मंत्री को नियुक्त करने के मसले पर विचार किया गया। इससे पहले सरकार ने एक वरिष्‍ठ अधिकारी को रामदेव के पास भेजकर अनशन न करने के लिए मनाने की कोशिश की थी।

दूसरी तरफ बाबा रामदेव के ऐलान को स्थानीय पुलिस के बाद ट्रैफिक पुलिस ने भी लाल झंडी दिखा दिया है। लोकल पुलिस ने यह जरूर कहा है कि अगर रामदेव कुछ समर्थकों के साथ जंतर मंतर पर आकर एक दिन का धरना देना चाहते हैं तो दे सकते हैं।

आंदोलन का हस्र :-

इस आंदोलन का हस्र क्या होगा ?जैसे अन्ना हज़ारे को लॉलीपॉप पकड़ा दी गयी उसी तरह रामदेव को भी पकड़ा दी जाएगी कोई कमेटी बना दी जाएगी ओर फिर झुनझुना बजाते रह जाएगे. इस देश मे सरकार की नीयत रही है ठंडा करके खाओ क्या काला धन एक दिन या पंद्रह दिनो मे वापिस आ जाएगा ?नही सुप्रीम कोर्ट की फटकार सुनने के बाद भी नतीज़ा नही आया तो इससे उम्मीद लगाना दिन मे सपना देखने के माफिक है यदि यही आंदोलन रेड्डी बंधुओ के खिलाफ लड़ा जाता या जनार्दन रेड्डी के खिलाफ होता जो सोने की कुर्शी पर बैठता है या उन केडियो की सरगना के खिलाफ होता जिसने एक डॉक्टर की जान ले ली बिहार मे या उन नकशहाल बादियो के खिलाफ होता.नरसहार उनकी आदत बन रही है . तो लगता की सार्थांक कदम है देश की जनता तो देशी काला धन से परेशान है चलो एक ओर समित गठित हो जाएगी ओर चेयर पर सन रामदेव जी बन जाएँगे ओर मीटिंग होती रहेंगी. राम देव से अनुरोध है की वा इस तरह के आंदोलन ना करके पार्टी बनाए ओर कूद पड़े राजनीत मे तभी अपने एजेंडे को लागू करा सकते है.